क्या Twitter को बेन कर देगी मोदी सरकार , मोदी सरकार का आदेश व Twitter की सफाई

 Twitter Vs Bharat Sarkar

 Tech Qureshi :- गुरुवार को राज्यसभा में रविशंकर प्रसाद ने कहा की " केपिटल हिल की घटना के बाद Twitter द्वारा की गई कार्रवाई का हम समर्थन करते है, परन्तु आश्चर्य यह है कि लाल किले पर उसका स्टैण्ड अलग है. 

राज्य सभा प्रश्नकाल के समय रविशंकर प्रसाद ने कहा कि अगर सोशल मीडिया को गलत जानकारी व झूठी खबर फेलाने के लिए स्तेमाल किया जायेगा तो सरकार कानूनी कार्रवाई करेगी . 


आप को बताते चले की किसान दिल्ली की सीमाओ पर आन्दोलन कर रहे है , किसान सगठनों की  26 जनवरी 2021 को ट्रेक्टर परेड के दोरान राजधानी दिल्ली के अलग - अलग हिस्सों में हिंसक वारदाते देखने को मिली , लेकिन लाल किले पर हुई घटना के बाद सरकार ने Twitter को लगभग 1000-1100 अकाउंट को ब्लॉक करने का निर्देश दिया था.

सरकार ने दावा किया था कि इनमे ज्यादातर अकाउंट खालिस्तान समर्थको के है या फिर कुछ ऐसे है जो कई महीनो से चल रहे किसान आन्दोलन या फिर 26 जनवरी को हुई घटना को लेकर झूठी खबरे व सूचनाएं फेला रहे है. 

क्या है  कार्पोरेट लॉ बनाम संविधान 

सरकार द्वारा Twitter को अकाउंट ब्लॉक के बाद ट्विटर ने कुछ अकाउंट ब्लॉक तो कर दिए , मगर ट्विटर ने इनमे से कुछ अकाउंट को बहाल कर दिया. 

इस बारे में ट्विटर की ओर से एक बयान जारी किया गया , जिसमे कहा गया कि, उसने मीडिया से जुड़े लोग , पत्रकार , सामाजिक कार्यकर्ताओ और राजनेताओ के अकाउंट पर कोई कार्यवाही नहीं की है तथा हम अभिव्यक्ति की आजादी की वकालत करते रहेंगे.और हम भारतीय कानून के अनुसार इसका रास्ता भी निकाल रहे है .



लेकिन सुचना मंत्री रवि शंकर प्रसाद का कहना है कि " आप जब एक प्लेटफोर्म बनाते हो तो आप एक कानून भी बनाते है , जिसमे ये तय किया जाता है कि क्या सही है और क्या गलत , अगर इसमें भारतीय संविधान व कानून के लिए कोई जगह नहीं तो यह नहीं चलेगा और कार्रवाई होगी. 

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने हाल ही में अपने एक लेख में कहा कि आजकल विदेशो के समाचार पत्रों में भारत में हो रहे किसान आन्दोलन पर ज्यादती , इन्टरनेट पर पाबन्दी और पत्रकारों पर राजद्रोह से भरे पड़े है , इससे भी देश की छवि ख़राब हो रही है.

Twitter के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए BJP सांसद तेजस्वी सूर्या का कहना है कि ऐसा लगता है कि Twitter खुद को भारत के संविधान से ऊपर समझ रहा है उनका कहना है कि Twitter अपनी सुविधानुसार चुन रहा है कि कोन सा कानून वह मानेगा और कोन सा नहीं.

रविशंकर के अनुसार सोशल मीडिया ने आम आदमी की अभिव्यक्ति को और ज्यादा बल प्रदान किया है परन्तु इसका दुरूपयोग किया जा रहा है 

वही कांंग्रेस नेता व पूर्व क्रिकेटर नवजोत सिंह सिद्धू ने " ट्विटर सेंसरशिप " के हेश टैग के साथ लिखा "क्या लिखू , कलम जकड में है , कैसे लिखूं , हाथ तानाशाह की पकड़ में है " 

      Tech Qureshi

 

क्या Twitter को बेन कर देगी मोदी सरकार , मोदी सरकार का आदेश व Twitter की सफाई क्या Twitter को बेन कर देगी मोदी सरकार , मोदी सरकार का आदेश व Twitter की सफाई Reviewed by Teck Qureshi on फ़रवरी 26, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.