कोरोना वायरस के बाद होने वाले ब्लैक-फंगस क्यों हो रहा है.

 इस लेख में आप समझेंगे कि कोरोना वायरस के बाद होने वाले ब्लैक-फंगस क्या है, ब्लैक फंगस के लक्षण क्या है, और ब्लैक फंगस के उपाए क्या है.

Tech Qureshi :-  जो लग कोरोना से जंग जीत कर स्वास्थ्य हो रहे है उन लोगो पर ब्लैक फंगस जयादा अटैक कर रहा है. और ऐसे कई मामले सामने आ चुके है. यह एक जानलेवा फंगस है, यदि आपको ब्लैक फंगस से बचना है तो इसके शुरूआती लक्षण दिखते ही इसका इसका इलाज कर लेना आवश्यक है. नहीं तो इससे जान जाने की सम्भावना 40%-50% हो जाती है. डॉक्टरों का कहना है. कि जब कोई इन्सान कोरोना से संकर्मित हो जाता है तो उसे स्टेरॉयड दिया जाता है. जिससे उस मरीज की  रोग-प्रतिरोध क्षमता कम हो जाती है. 

ब्लैक-फंगस
 

जो लोग शुगर के मरीज है और कोरोना से संक्रमित हो गये थे उन लोगो में ये अधिकतर देखा जा रहा है. जिन लोगो में भी ब्लैक फंगस के लक्ष्ण दिखाई दे तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क कर लेना ही  बेहतर होगा नहीं तो जान से हाथ धोना पड़ सकता है.

ब्लैक-फंगस या म्युकर-माइकोसिस के लक्षण 

जानकारी के अनुसार, ब्लैक फंगस के लक्षणों में आँखों में भारीपन यानिसुजन होना, आँखों के चारो ओर कालापन, आँखों में दर्द, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ होना आदि समस्याएँ होती है. यदि आपको भी ऐसी समस्याओ का सामना करना पड़ रहा है. तो तुरंत डॉक्टर से सलाह ले. 

ब्लैक फंगस से बचने के उपाये. 

ब्लैक फंगस एक ऐसा इन्फेक्सन है. जिसे कोरोना वायरस ट्रिगर करता है. ये ब्लैक फंगस नाक से शुरू होकर आँखों तक पहुँच जाता है. ब्लैक फंगस से बचने के लिए शरीर में शुगर के लेवल को नियंत्रित रखे. यदि ये आप इस स्थिति में है कि आपके आक्सीजन लगाना पड़ जाये तो हाइजीन का ख्याल रखे. स्टेरॉयड दवाओ का सोच समझ कर प्रयोग करे. 

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन के अनुसार, ब्लैक फंगस से बचने के लिए मास्क पहने, भीड़-भाड़ वाले इलाके में न जाये. साफ सफाई का विशेष धयान रखे. डायबिटीज पर कंट्रोल रखे. और कोरोना से रिकावर होने के बाद अपने शुगर लेवल को मोनिटर करते रहे. 

शरीर में रक्त प्रवाह को रोक देता है, ब्लैक फंगस.

 ब्लैक फंगस वातावरण में मौजूद होता है, जो हमारी नाक से होता हुआ हमारे शरीर में प्रवेश करता है. ये रक्त धमनियों में प्रवेश कर उतक तक पहुँच कर रक्त प्रवाह को रोक देता है. यदि समय पर उपचार न किया जाये जो ये फेफरों पर भी अटैक कर देता है. 

शरीर से कमजोर लोगो को है. इससे खतरा.  

जो लोग शारीरिक रूप से कमजोर है. उन लोगो पर ब्लैक फंगस का असर अधिक होता है. परन्तु जो लोग शारीरिक रूप से मजबूत है, उन लोगो पर ब्लैक फंगस का असर कम होता है. या यूँ कहे जिन लोगो की रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है वे ब्लैक फंगस की चपेट में ज्यादा आ रहे हैं. साथ ही जो लोग कैंसर, HIV व कुपोषित है उन लोगो को ब्लैक फंगस का खतरा अधिक रहता है.

 

जाने आईएएस मनोज कुमार की पढाई करने की रणनीति  

 

#ब्लैक-फंगस के लक्षण               #ब्लैक=फंगस की पहचान                  #ब्लैक-फंगस क्या है 

कोरोना वायरस के बाद होने वाले ब्लैक-फंगस क्यों हो रहा है. कोरोना वायरस के बाद होने वाले ब्लैक-फंगस क्यों हो रहा है. Reviewed by Teck Qureshi on मई 18, 2021 Rating: 5

कोई टिप्पणी नहीं:

Blogger द्वारा संचालित.